apne aap ko kaise sudhare और अपनी टैलेंट को कैसे पहचाने

Shayr

apne aap ko kaise sudhare और अपनी टैलेंट को कैसे पहचाने

apne aap ko kaise sudhare और अपनी टैलेंट को कैसे पहचाने

कैसे पहुचे दोस्तों वैसे तो अपनी अपनी जिन्दगी है |

और अपने मर्जी से जीते है | इसमें कोई दिकत नहीं लेकिन अपने टैलेंट को पहचानो और उस स्थर से काम करो जो अभी तक कोई नहीं  किया हो दोस्तों आपके अंदर क्या छुपा है |ये आप भी नहीं जानते है |  जब हम गुसा करते है | हो जाते है | ठीक उसी प्रकार होता है | अगर आप ने कोई काम करने  जा रहे जो आपके आस रहनेवाले कोई नहीं जानता है |क्योकि कोई न कोई कुछ नया करना चाते है  जब आप ने शुरू किया है | तो कई नहीं था और अभी कोई नहीं है लेकिन उस काम में जब कोई प्रोब्लम  आती है | तो अपने दोस्तों या रिश्तेदारों से पूछते है

यही समय है | अपने आपको सुधारने का

क्या जब भी कोई प्रोब्लम होगा अपने दोस्तों या रिश्तेदारों से कब तक पूछेंगे हो सकता आपकी बातो पर हसी

उडाये ऐसे कब तक चलेगा आप को अपनी दिमाग लगानी होगी अपने आप से सवाल करना होगा अपनी मंजिल तक

पहुचने के लिए दुसरो के सहारे नहीं जाया जा सकता क्या पता वो कब आपका साथ छोड़ दे या क्या आपको गारंटी है | इसलिए अपने आप से सवाल करो की मै क्या कर सकता हु कोई तुम्हारे अंदर के टैलेंट को दुसरा कोई नहीं जगा सकता सिवाए आपके हर इंसान के पास कोई कोई एक टैलेंट होता है | उसे पहचानो आज कल मोबाइल पर दिन दिन भर गवा देते है | क्या उससे कुछ होने वाला है | कुछ नहीं होने वाला है | जो अपनी जिन्दगी खुसाल जीना चाहता है | वो समय को समझता है | ना की समय से खिलवाड़ करता है | कुछ लोग एक घंटे में 100 रूपये कमाते है | तो दूसरी तरह वही एक घंटे में 100 दो हजार कमाते है | एसा क्यों होता है | क्योकि वो

apne aap ko kaise sudhare और अपनी टैलेंट को कैसे पहचाने

समय को समझा है | और समय के अनुसार काम किया है | सोचो की मै क्या कर सकता हु

तुम जो कर सकते हो वो दुसरा कोई नहीं कर सकता हमें अपने आप को सुधारना है |

ना की लोगो को लोगो से हमें कोई लेना देना नहीं है | जब हम सही है | और अपने काम सही चुना है | क्योकि हमें औरो की तरह नहीं जीना है | एक एक्स्जाम्पल देना चाहता हु मै जिस गाव में रहता हु यहाँ के लोग मछली मारते है | अगर कोई गाव छोड़कर प्रदेश पैसे कमाने के लिए जाता है | तो पैसा कम मिलता है | और यह सोचता है | गाव ही ठीक सुबह जावो और शाम को घर आ जावो और जेब में दो चार सौ आगये इतना मौज यहाँ नहीं है | सौ या दो सौ पर बारग घंटे तब जाकर मिलता है | यह सोचकर काम छोड़कर गाव चले आते है | जबकि उनके पास समय होता है | कुछ करने वो चाहते तो नया कर सकते है | लेकिन नहीं वो एसा नहीं करते ये जिन्दगी अनमोल है| 

 apne aap ko kaise sudhare और अपनी टैलेंट को कैसे

ऐसे न गवाए ये सबको पता है| एक न एक दिन जाना है | आप लोगो को इतिहास पढ़ते कुछ

एसा करे की लोग आपका इतिहास पढ़े किसी को नहीं पता की आप क्या कर सकते है | समय के

अनुसार आप किस मुकाम तक पहुच पाए ये किसी को नहीं पता एक कहावत है | काटे का पेड़ लगाये तो आम कहा से पाए जो आप करेंगे वही पायेगे एसा नहीं है की आप कटे वाला पेड़ लगाये और फल आपको मिलेगा कभी नहीं मिलेगा जब हम शरह या बाजार जाते है | कोई पैदल जाता है तो कोई गाडी से हम सोचते है | कास हमारे पास भी होता तो मै भी सौकीन से जाता ये क्या ये तो कुछ भी नहीं इससे भी आगे जा सकते हो अपने आप में डूडो की मै क्या करू की हमारे पास बँगला गाडी हो सोचो की मै क्या कर सकता हु और उस पर एक्सन लो  बिना एक्सन लिए आप कुछ नहीं कर सकते क्योकि सोचनेवाले सोचते रह जाते है | जो एक्सन लेते है | वो कुछ ना कुछ कर जाते है | सोचने से कुछ नहीं होता

apne aap ko kaise sudhare और अपनी टैलेंट को कैसे पहचाने

आप ने सोचा की ये हमें करना है | तो उस पर एक्सन लो ना की केवल सोचो क्योकि जब

कुछ नया करने जा रहे होते है | तो कोई नहीं होता जब हम उस मंजिल तक पहुच जाते है

तो दुनिया हमारे साथ होती है | और आप उसका मालिक होते है | ना की नौकर इसलिए समय से काम काम करो और अपने आप को पहचानो की मै क्या कर सकता हु क्योकि किसी न किसी एक में आपका टैलेंट होगा एसा नहीं है की किसी के पास कोई टैलेंट नहीं है | कोई न कोई टैलेंट होता है जिस चीज में आपका इंटरेस्ट है | उस काम को बहुत आगे ले जा सकते हो क्योकि उसमे आपक मन लगेगा अच्छे से सोच सकते हो की हमें कैसे इसको आगे ले जाना है | अगर बिना इंटरेस्ट के कोई काम करते हो तो उसको उस मंजिल तक नहीं ले सकते हो क्योकि काम करने में आपका मन ही नहीं लगेगा तो आप उस काम को आगे कैसे ले सकते हो Adinational

apne aap ko kaise sudhare और अपनी टैलेंट को कैसे पहचाने

मान लो मोटरसाइकल से कोई एसी वास्तु ले जा रहे है | जो कानूनन अपराध है |

और उस चीज को पीछे बांधे हुवे है | और रोड पर जा रहे है |

अचानक से पुलिस ने आपकी गाड़ी रोक्वादी और बोला पीछे क्या है | तुम क्या जवाब दोगे इस समय टैलेंट की जरुरत है | क्या बोलोगे ज़रा सोचो आपके पास सोचने का समय नहीं है |अगर आप बोलने में उलज जाते हो तो आप पकडे जावोगे उसे झट से जवाब देना होगा उसने पूछा की क्या है | इसमें तो आपके दिमाग में उसका जवाब देना है | की उसे ये ना लगे की इसमें कोई गलत वास्तु है | जो भी उतर दे झट से दे जैसे उसने पूछा इसमें क्या है | आप ने बोला माँ की तबियत ख़राब है | हास्पिटल में चार लोग है |उसके लिए खाना है | या और कोई उतर दे सकते है | मान लो उसने छोड़ दिया ये टैलेंट है | जो अगला पूछा उसने झट से जवाब दिया ये क्या है अगर इसको जवाब नहीं दे पाते है | 

अपनी टैलेंट को कैसे पहचाने

मान लीजिये मै एक गरीब परिवार से और मैंने टेंथ क्लास तक पढ़ाई की है |

स्थिथि को देखकर मै किसी के यहाँ नौकरी करता हु तो क्या मै जीवन भर उसी के नौकरी करता रहूंगा

कुछ लोग है | जो इसका दिमाग ही नहीं चलता की मै क्या करू आप एकांत होकर सोचे की मै एसा कौन सा काम कर सकता हु जो मेरे परिवार के खर्चा को देखकर कुछ आगे जा सकता हु एसा सोचना है | अगर नहीं सोचते है | वही जिन्दगी कट रही है | तरह कटती रह जायेगी apne aap ko kaise sudhare और अपनी टैलेंट को कैसे पहचाने

जीवन में कामयाब न होने के कारन a

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: